Breaking News
Home / ज्योतिष / ज्योतिष शास्त्र और धातुओं के पात्रों में खाने का महत्व

ज्योतिष शास्त्र और धातुओं के पात्रों में खाने का महत्व

भागवताचार्य-पं. श्री राजेश मिश्रा जी

 

धातुओं का अपना महत्व तो है ही वहीं ज्योतिष शास्त्र में भी धातुओं को महत्वपूर्ण माना गया है। चाहे रत्न धारण करवाना तो संबंधित धातु की अंगूठी बनाने की सलाह दी जाती है तो वहीं अलग-अलग धातुओं के बने पात्रों में भी भोजन बनाने व करने का महत्व प्रतिपादित किया गया है।

सोना एक गर्म धातु है। सोने से बने पात्र में भोजन बनाने और करने से शरीर के आन्तरिक और बाहरी दोनों हिस्से कठोर, बलवान, ताकतवर और मजबूत बनते है और साथ साथ सोना आँखों की रौशनी बढ़ता है। चाँदी एक ठंडी धातु है, जो शरीर को आंतरिक ठंडक पहुंचाती है। शरीर को शांत रखती है इसके पात्र में भोजन बनाने और करने से दिमाग तेज होता है, आँखों स्वस्थ रहती है, आँखों की रौशनी बढती है और इसके अलावा पित्तदोष, कफ और वायुदोष को नियंत्रित रहता है। काँसे के बर्तन में खाना खाने से बुद्धि तेज होती है, रक्त में शुद्धता आती है, रक्तपित शांत रहता है और भूख बढ़ाती है।

लेकिन काँसे के बर्तन में खट्टी चीजे नहीं परोसनी चाहिए खट्टी चीजे इस धातु से क्रिया करके विषैली हो जाती है जो नुकसान देती है।तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से व्यक्ति रोग मुक्त बनता है, रक्त शुद्ध होता है, स्मरण-शक्ति अच्छी होती है, लीवर संबंधी समस्या दूर होती है, तांबे का पानी शरीर के विषैले तत्वों को खत्म कर देता है इसलिए इस पात्र में रखा पानी स्वास्थ्य के लिए उत्तम होता है. तांबे के बर्तन में दूध नहीं पीना चाहिए इससे शरीर को नुकसान होता है।पीतल के बर्तन में भोजन पकाने और करने से कृमि रोग, कफ और वायुदोष की बीमारी नहीं होती। पीतल के बर्तन में खाना बनाने से केवल ७ प्रतिशत पोषक तत्व नष्ट होते हैं।

 

 

About WFWJ

Check Also

आज क्या कहता है आपके भाग्य के सितारे

मेष- उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। भवन निर्माण संबंधी बाधा दूर होगी। धन प्राप्ति सुगम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *