Breaking News
Home / देश / हाइपरलूप ट्रेन, 1 घंटे में जाएगी 1000 Km

हाइपरलूप ट्रेन, 1 घंटे में जाएगी 1000 Km

अपनी लेटलतीफी के लिए मशहूर भारतीय रेल को तेज
तर्रार बनाने का सपना रेल मंत्री सुरेश प्रभु देख रहे हैं
और इस सपने को पंख लगाने का काम हाइपरलूप वन नाम
की एक कंपनी कर रही है. हाइपरलूप वन कंपनी ने राजधानी
दिल्ली में रेलवे के अधिकारियों और मीडिया के लिए
हाइपरलूप रूट्स के बारे में एक सम्मेलन बुलाया.
इस सम्मेलन में रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने नई तकनीक में
भरोसा जताते हुए कहा कि उन्हें उम्मीद है कि हाइपरलूप
कंपनी लास एंजल्स में हो रहे अपने प्रयोगों में सफलता के
झंडे गाड़ेगी. लेकिन इस तकनीक के बारे में बहुत ज्यादा
हाईपर होने की जरूरत नहीं है. भारतीय रेलवे तमाम ऐसे
रास्तों पर विचार कर रही है जिससे उसकी ट्रेनों की
रफ्तार तेजी से बढ़ सके.

हाइपरलूप कंपनी के द्वारा पेश किया गया कांसेप्ट
आकर्षक है और ऐसी किसी भी तकनीक में भारतीय रेलवे
पार्टनरशिप करना चाहती है. हाइपरलूप के सम्मेलन में
नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने भी अपनी बात
रखी उन्होंने कहा की बढ़ती हुई आबादी के मद्देनजर भारत
को रेलवे के मामले में नई टेक्नोलॉजी की तरफ रुख करना
पड़ेगा.

हाइपरलूप एक ऐसी टेक्नोलॉजी है जिसमें बड़े-बड़े पाइपों के
अंदर की हवा को पूरे तरीके से निकालकर उसमें तेज
रफ्तार से ट्रेन चलाई जाएगी. खास बात यह है कि इस
पाइप के अंदर ट्रेन लेवीटेशन टेक्नोलॉजी से बढ़ाई जाएगी.
लेविटेशन टेक्नोलॉजी के तहत ट्रेन को बड़े-बड़े इलेक्ट्रिक
चुंबकों के ऊपर से चलाया जाता है इसमें चुंबकीय शक्ति के
प्रभाव से ट्रेन ऊपर उठ जाती है और फिर यह बड़ी तेजी
से ट्रैक के ऊपर उठकर चलती है.

इस कांसेप्ट को मैग्लेव ट्रेन में इस्तेमाल किया जाता है.
लेकिन मैग्लेव ट्रेन का ट्रैक हवा में खुला होता है लिहाजा
इसकी रफ्तार 500 किलोमीटर प्रति घंटे तक ही जा
सकती है. इसकी वजह यह है कि तेज रफ्तार में हवा एक
अवरोधक का काम करती है और घर्षण की वजह से ट्रेन
की रफ्तार एक निश्चित रफ्तार से ज्यादा नहीं हो सकती
है.

इस कठिनाई से पार पाने के लिए ट्रेन को बड़े-बड़े
बेलनाकार पाइपों के अंदर निर्वात पैदा करके चलाया जा
सकता है. इसके लिए एक खास तरीके की तकनीक पिछले
दिनों में सामने आई है जिसमें यह कहा जा रहा है की ट्रेन
को 1000 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पर चलाया
जा सकेगा

हाइपरलूप के नाम से मशहूर यह टेक्नोलॉजी टेस्ला मोटर्स
के सीईओ एलन रीव मस्क ने इजाद की है. खास बात यह
है कि हाइपरलूप वन कंपनी अपनी इस टेक्नोलॉजी के बारे
में ज्यादा कुछ शेयर नहीं कर पा रही है. ऐसा अनुमान है
कि हाइपरलूप तकनीक में सुपर कंडक्टिविटी का भी
इस्तेमाल किया जाएगा.

हाइपरलूप वन विजन फॉर इंडिया नाम के इस सम्मेलन में
हाइपरलूप वन ग्लोबल चैलेंज के सेमीफाइनल में पहुंची 5
टीमों के प्रस्तावित हाई स्पीड ट्रांसपोर्टेशन रूस के बारे
में भी जानकारी दी गई. इस ग्लोबल चैलेंज में दुनिया भर के
90 देशों की तमाम कंपनियों ने भाग लिया जिनमें से 35
सेमी फाइनलिस्ट को छांटा गया.

जिन पांच सेमीफाइनलिस्ट को इस लिस्ट में जगह मिली है
वह हैं…

1- AECOM बेंगलुरु से चेन्नई: 334 किलोमीटर लंबे इस
रूट पर हाइपरलूप ट्रेन अपना सफर महज 20 मिनट में
पूरा करेगी
2- LUX HYPERLOOP NETWORK बेंगलुरु से
तिरुवनंतपुरम 736 किलोमीटर लंबे इस रेल मार्ग पर
हाइपरलूप ट्रेन अपना सफर 41 मिनट में पूरा करेगी
3- DICLIX GROUNDWORKS दिल्ली से मुंबई
जयपुर और इंदौर होकर हाइपरलूप ट्रेन 1370
किलोमीटर का रास्ता अब महज 55 मिनट में तय करेगी
4- HYPERLOOP INDIA मुंबई से चेन्नई बेंगलुरु
होकर हाइपरलूप ट्रेन 1102 किलोमीटर का सफर महज
50 मिनट में पूरा करेगी
5- INFI ALPHA बेंगलुरु से चेन्नई 334 किलोमीटर
का सफर महज 20 मिनट में हाइपरलूप ट्रेन पूरा करेगी

हाइपरलूप कंपनी को भारत में एक बड़ा बाजार दिख रहा है
और खास बात यह है यहां की सरकार आधुनिक तकनीक
पर ज्यादा जोर दे रही है. भारतीय रेलवे ने पिछले साल
देश में मैग्लेव ट्रेन जैसी टेक्निक लाने के लिए ग्लोबल
टेंडर निकाला था जिसमें अनेक कंपनियों ने भाग लिया था.
लेकिन इस ग्लोबल टेंडर में मेक इन इंडिया के लिए
हाइपरलूप के अलावा कोई दूसरी बड़ी कंपनी तैयार नहीं हुई
थी. लिहाजा भारतीय रेलवे और इसके मंत्री सुरेश प्रभु
हाइपरलूप से हाईपर उम्मीदें लगाए बैठे हैं.

[नोट:-यदि आपके पास भी है कोई खबर तो
आप हमें भेजिए। ईमेल-
[email protected]
या हमें व्हाट्सअप कीजिये-8817657333]

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को
बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या
अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई
कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो
वह [email protected]
पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य
के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके
या हटाया जा सके।

About WFWJ

Check Also

डॉ. अर्जुन व श्रद्धा खापरे बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी के मेम्बर नियुक्त।

स्टार भास्कर डेस्क/जबलपुर@ अखिल भारतीय वन्यजीव अनुसंधान संगठन बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी (बीएनएचएस) भारत के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *