Breaking News
Home / देश / मध्य प्रदेश / दमोह / दमोह जिले मै दम तोड़ता बीड़ी उद्योग।

दमोह जिले मै दम तोड़ता बीड़ी उद्योग।

श्रमिको के दमन की लंबी दास्तान।

दमोह: बीड़ी उद्योग दमोह जिले में दम तोड़ता जा रहा है मध्यप्रदेश शासन के वन-श्रम व सहकारिता विभागों के आला अफसरों से लेकर अदना कर्मचारियों की उद्योगपतियों से सांठगांठ इसका एक प्रमुख कारण है तो स्वयं सरकार द्वारा  बीड़ी उद्यम के लिए  अनुकूल परिस्थितियां न रहने देना, दूसरा मुख्य कारण है परिणाम यह है कि बीते वर्ष में 7 से ज्यादा बीड़ी कारखाने बंद हो चुके है और हजारो मजदूरों जिनमें बड़ी तादात महिलाओ व बच्चों की है बेरोजगार हुए है वस्तुतः उद्योगपतियो व प्रशासनिक अमले रूपी दो पाटों के बीच श्रमिक हित ही निरन्तर प्रभावित है बावजूद बिडंबना यह है कि इन जख्मो पर मलहम लगाने या उसका निदान ढूढ़ने के लिए सामाजिक श्रमिक एवं राजनैतिक संगठनों ने कोई सुध नही ली है  हालत यह है कि बीड़ी निर्माता सैकड़ो श्रमिको को पैदा हुए विभिन्न रोगों के चलते बीते दशकों में काल कवलित हो चुके है तो हज़ारो बीमारियों के चुंगल में फंस सिसक रहे है मध्यप्रदेश में बीड़ी निर्माता कार्य एक प्रमुख आधार स्तम्भ है इस स्तम्भ के ढहते जाने में सक्षम नेतृत्व का अभाव होना एक महत्वपूर्ण कारण है सार्थक नेतृत्व के ना होने से बीड़ी श्रमिको के हित निरन्तर पार्श्व में जाते है और उनकी जो आवाज सड़क पर अपने हको के लिए गूंजना चाहिए वह उनके हलको में ही घुटती जा रही है बीड़ी श्रमिक चाहते है कि उनके वाजिब अधिकारों के लिए शासन व उद्योगपतियों से सीधी दोहरी लड़ाई छेड़े मगर कुशल नेतृत्व के आभाव में उनकी ललकार नक्काखनो में तूती होकर राह गई है । दमोह में उप तहसील पटेरा सहित कुल जमा 7 तहसील हटा, दमोह, पथरिया, तेंदूखेड़ा, जबेरा, पटेरा, बटियागढ़ है इतने ही विकासखंड (हटा, दमोह, पथरिया, तेंदूखेड़ा, जबेरा, पटेरा एवं बटियागढ़) है इन सभी इलाको में चप्पे-चप्पे पर बीड़ियां बनाई, बेची, खरीदी और वितरित की जाती है जिले के उच्च उद्योगपति वर्ग के एक हिस्से की यह अकूत कमाई का साधन है तो निम्न मध्यम वर्ग व निम्न वर्ग के जीवन मे आर्थिक आधार की धुरी है। यही कारण है कि जिले की चारो विधानसभा दमोह, हटा, पथरिया एवं जबेरा से जो भी राजनेता विजयी होते है उनके दावो और वादों में स्वाभाविक रूप से बीड़ी श्रमिको का हित समाहित रहता है बावजूद इसके दमोह जिले में बीड़ी श्रमिको की दुर्दशा देखकर रोंगटे खड़े हो जाते है।


[संवाददाता@अनुराग गौतम दमोह ]

www.starbhaskar.com स्वतंत्र पत्रकारिता के लिए सबसे बड़ा मंच है। यहां विभिन्न समाचार पत्रों/टीवी चैनलों में कार्यरत पत्रकार अपनी महत्वपूर्ण खबरें प्रकाशन हेतु प्रेषित करते हैं ताकि उनके मुद्दे एवं स्थानीय समस्याएं पूरे प्रदेश के नोटिस में आ सकें।]

TRUSTED SOURCE FOR NEWS

अब अखबार नहीं डिजिटल अखबार पढ़िए’स्टार भास्कर” के साथ यह ताजा सामाचारों का एक डिजिटल माध्यम है जो जनता को सच्चाई देने में समाचारों का एक विश्वसनीय स्रोत बनने का प्रयास है। हमारे दर्शकों के पास समाचार पर टिप्पणी करने और अन्य पाठकों के साथ अपनी स्वतंत्र राय साझा करने का अंतिम अधिकार है हमारी वेबसाइट ब्राउज़ करें और आप की खबर (आज की ताजा खबर) की जाँच करें, साथ ही आपको मिलेगा आपकी खबर के एक्सपर्ट्स की टीम खबरों की तह तक जाने का प्रयास करती है और कोशिस करती है कि सही विश्लेषण के साथ खबर को परोसा जाए जिसमे वीडियो और चित्र की भी प्रमंकिता हो । इसके लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें और भारत में कुछ भी नया घटनाक्रम को घटित होने पर अपने को रखें अपडेट|

नोट:-यदि आपके पास भी है कोई खबर तो आप हमें भेजिए। ईमेल- [email protected]]

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके।

About WFWJ

Check Also

विधि के छात्र-छात्रा फ्रेशर पार्टी में जमकर थिरके

स्टार भास्कर डेस्क/जबलपुर@ सरदार पटेल विधि महाविद्यालय पिपरिया, खमरिया, जबलपुर में आज दिनांक 12/11/2022 को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *