Breaking News
Home / देश / तेजबहादुर के वीडियो में जो खाना दिखाई दिया उसकी पड़ताल

तेजबहादुर के वीडियो में जो खाना दिखाई दिया उसकी पड़ताल

नई दिल्ली: बीएसएफ के जवान तेज बहादुर ने
फेसबुक पर वीडियो डाल बीएसएफ के जवानों को
मिल रहे खाने की शिकायत की थी. इसके लिए
तेजबहादुर ने सरकार को कुछ नहीं कहा लेकिन
बीएसएप के अधिकारियों पर बदइंतजामी के आरोप
जरूर लगाए थे.
तेजबहादुर के वीडियो में जो खाना दिखाई दिया
उसकी पड़ताल के लिए स्टार भास्कर न्यूज़ ने बीएसएफ की गुरूग्राम
स्थित 95वीं बटालियन के मेस का जायजा लिया.
यहां हमने इस खाने की तुलना की अमेरिकी सैनिकों के
खाने से भी की. भारतीय सैनिकों को मिलने वाला और
अमेरिकी सैनिकों में मिलने वाले खाने का अंतर जान
आप भी चौंक जाएंगे.
बीएसएफ जवान को खाने के लिए महीने का 2905
रूपए दिए जाते हैं. इस मेस में खाने की क्वालिटी भी
अच्छी नजर आई. भारतीय सैनिक और अर्धसैनिक
बलों के जवानों को रोज करीब 3900 कैलोरी युक्त
खाना दिया जाता है. मेस की दीवार पर लगे बोर्ड में
इस बात का जिक्र भी है.
हालांकि ठंड और बर्फीली सीमाओं पर हर सैनिक की
जरूरत के हिसाब से ज्यादा कैलोरी वाला खाना
परोसा जाता है और ये अमेरिकी सैनिकों को दिए जाने
वाली खुराक के लगभग बराबर ही है.
एक अमेरिकी सैनिक को हर रोज करीब 3250 कैलोरी
तक की ताकत देने वाला खाना मुहैया कराया जाता
है. जबकि ठंड में रहने वाले सैनिक को हर रोज करीब
4500 कैलोरी वाला खाना दिया जाता है. जिसमें
ज्यादातर हिस्सा कार्बोहाइड्रेट और अनसैचुरेटेड
फैट होता है.
अमेरिकी सैनिकों के लिए खाना मिलेट्री मेस में बनता
और बफे स्टाइल में सर्व किया जाता है.
बीएसएफ जवानों को नाश्ते में पूरी, सब्जी, चाय और
पराठा मिलता है जबकि अमेरिकी सैनिकों को नाश्ते मे
अंडे से बनी डिश, तीन तरह के ब्रेड, तीन तरह के
मीट, 6 तरह के सिरियल, आलू से बना कोई एक
व्यंजन, और कम के कम एक पेस्ट्री परोसी जाती
है.
लंच और डिनर में भारतीय जवानों को दाल, सब्जी,
रोटी, चावल और सलाद परोसा जाता है. रात में तीन
दिन चिकन और तीन दिन मटन मिलता है. शाम को
चाय मिलती है और चाय नहीं पीते तो फल मिल जाता
है. जबकि अमेरिकी सैनिकों को लंच और डिनर में कम से
कम दो तरह की ग्रेवी वाली डिश, तीन तरह के मीट
से बने व्यंजन, पित्जा या फ्राइड चिकन, फ्रेंच
फ्राइज, अनियन रिंग्स, चिप्स और कम से कम 4
तरह की स्वीट डिश परोसी जाती है. इतना ही नहीं
ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर तीनों के साथ चॉकलेट
मिल्क दिया जाना अनिवार्य है. इसके अलावा
सैनिकों को खाना बाहर ले जाने की सुविधा भी दी
जाती है. जिसमें वो हैमबर्गर, चीज़बर्गर, हॉट डॉग
और फ्रेंच फ्राइज ले जा सकते हैं.
इन सबके बाद कैलोरी के मामले में जहां बीएसएफ की
मेस में मिलने वाला खाना, अमेरिका में सैनिकों को दिए
जाने वाले खाने के बराबर नजर आता है. वहीं तेज
बहादुर के वीडियो में दिखाए गए खाने की क्वालिटी
कहीं बेकार दिखाई पड़ती है.

About WFWJ

Check Also

आजाद हिंदुस्तान का मन्त्र-करेंगे और करके रहेंगे-पीएम ।

देश की आज़ादी के लिए वर्ष 1942 में छेड़े गए ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ के 75 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *