Breaking News
Home / देश / मध्य प्रदेश / जबलपुर / जिला समन्वय एवं निगरानी समिति की बैठक सम्पन्न

जिला समन्वय एवं निगरानी समिति की बैठक सम्पन्न

जबलपुर: सांसद राकेश सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा गठित जिला समन्वय एवं निगरानी समिति (दिशा) द्वारा दिए जाने वाले निर्देशों के पालन के प्रति गंभीरता बरती जाए। प्रधानमंत्री की मंशा के अनुरूप समिति को पहले की तुलना में अधिक सक्षम और अधिकारसम्पन्न बनाया गया है। मकसद यह है कि विभिन्न योजनाओं एवं कार्यों का पूरी प्रतिबद्धता के साथ क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध में पेश आने वाली दिक्कतों का हल समिति के माध्यम से किया जा सकेगा। सांसद ने आशा व्यक्त की कि समिति से सम्बद्ध सभी अधिकारी और जनप्रतिनिधि योजनाओं का सुचारू क्रियान्वयन सुनिश्चित करने के सम्बन्ध में गंभीरता बरतेंगे।

बैठक में महापौर डॉ स्वाति गोडबोले, जिला पंचायत अध्यक्ष मनोरमा पटेल, विधायक अंचल सोनकर, प्रतिभा सिंह, सुशील तिवारी इंदु, नंदिनी मरावी, नीलेश अवस्थी, मनोनीत विधायक एल.बी. लोबो एवं अन्य समिति सदस्य मौजूद थे।

सांसद श्री सिंह ने बैठक के दौरान जिले में शौचालय निर्माण के लिए राशि की उपलब्धता और अब तक इस दिशा में किए गए कार्य के बारे में ब्यौरा तलब किया। इस सम्बन्ध में सीईओ जिला पंचायत हर्षिका सिंह ने अब तक किए गए कार्य की जानकारी दी। उन्होंने जिले के ग्रामों को खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) बनाने के लिए उठाए गए कदमों तथा शौचालय निर्माण के लक्ष्य की प्राप्ति के लिए किए गए प्रयासों की विस्तार से जानकारी दी। सांसद श्री सिंह ने ईई आरईएस को ताकीद की कि शौचालय का निर्माण केन्द्र सरकार के ले-आउट के अनुरूप हो। उन्होंने निर्धारित मानदण्डों से छोटे आकार के शौचालयों के निर्माण के मामलों की जांच के निर्देश दिए। कलेक्टर महेशचन्द्र चौधरी ने कहा कि जिन ग्रामों में सामुदायिक शौचालयों की आवश्यकता महसूस की जाएगी वहां इनका निर्माण सुनिश्चित किया जाएगा।

सांसद श्री सिंह ने डोर टू डोर कचरा कलेक्शन के बारे में निगमायुक्त वेदप्रकाश से जानकारी ली। उन्होंने टाइगर सफारी के सम्बन्ध में अपेक्षित समन्वय पर जोर देते हुए कहा कि टाइगर सफारी के अस्तित्व में आने पर पर्यटन की दृष्टि से जबलपुर के महत्व में जबर्दस्त इजाफा होगा। श्री सिंह ने इस सिलसिले में वन संरक्षक विन्सेंट रहीम को जरूरी निर्देश दिए। इस सम्बन्ध में नगर निगम से भी जरूरी पहल करने की अपेक्षा की गई। बैठक में जबलपुर नगर की योजना के बारे में भी विचार-विमर्श हुआ। निगमायुक्त  वेदप्रकाश ने शहर को ओडीएफ बनाने, प्रीकास्ट जनसुविधा केन्द्र, प्रीफैब शौचालय तथा पब्लिक टॉयलेट्स के रखरखाव के लिए उठाए जा रहे कदमों का ब्यौरा दिया। बैठक के दौरान अमृत योजना से जुड़े विभिन्न पहलुओं पर भी चर्चा हुई। सांसद श्री सिंह ने प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के लक्ष्य की तुलना में मौजूदा उपलब्धि की जानकारी प्रस्तुत करने के निर्देश दिए तथा जानना चाहा कि लक्ष्य हासिल करने की दिशा में क्या प्रयास किए जा रहे हैं। सांसद श्री सिंह ने नमामि देवि नर्मदा यात्रा को एक अद्भुत यात्रा निरूपित करते हुए कहा कि राजनैतिक मतभेदों से हटकर लोग इस यात्रा से जुड़ रहे हैं।

सांसद श्री सिंह ने बैठक के दौरान स्वास्थ्य विभाग के कामकाज की समीक्षा भी की। उन्होंने सीएमएचओ को निर्देश दिए कि वे अगली बैठक में विभिन्न योजनाओं के तहत प्राप्त आवंटन और व्यय सम्बन्धी पूरा ब्यौरा लेकर उपस्थित हों। श्री सिंह ने राजीव गांधी विद्युतीकरण योजना तथा अन्य योजनाओं के बारे में अधीक्षण यंत्री से जानकारी ली। उन्होंने ट्रांसफार्मर्स से जुड़ी शिकायतों और वोल्टेज की समस्या के शीघ्र निराकरण के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि हर हाल में किसानों के पम्प चालू होने चाहिए। श्री सिंह ने आशा व्यक्त की कि समिति की अगली बैठक में अधिकारी बेहतर तैयारी के साथ आएंगे ताकि केन्द्र प्रवर्तित योजनाओं की बेहतर ढंग से मॉनीटरिंग सुनिश्चित हो सके।

बैठक में महापौर डॉ स्वाति गोडबोले ने कहा कि नगरीय क्षेत्र में 55 नए ग्राम जुड़े हैं जिनमें बेहतर से बेहतर व्यवस्था के लिए ठोस कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि वर्ष 2018 की गर्मियों तक शहर के सभी वार्डों में नर्मदा जल पहुंचाने के लिए जरूरी पहल की जाएगी।

विधायक अंचल सोनकर ने सामुदायिक शौचालयों के निर्माण की जरूरत पर जोर दिया। उन्होंने निगम अधिकारियों से अपेक्षा की कि वे विभिन्न वार्डों में नालियों की सफाई के लिए कदम उठाएंगे। श्री सोनकर ने बड़ा फुहारा के विकास की जरूरत बताई तथा नालों पर कब्जा होते ही उन्हें कब्जा मुक्त किए जाने की अपेक्षा की। निगमायुक्त ने इस सिलसिले में शीघ्र कदम उठाने के बारे में आश्वस्त किया। जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती पटेल ने पनागर विकासखण्ड के कुछ ग्रामों में ट्रांसफार्मर खराब पड़े होने का उल्लेख किया। विधायक नीलेश अवस्थी ने मझौली क्षेत्र के कुछ फीडर्स से पर्याप्त बिजली प्राप्त नहीं होने का जिक्र करते हुए स्थिति में सुधार की जरूरत पर जोर दिया। समिति सदस्य खिलाड़ी सिंह आर्मो ने भी कुछ हैण्डपम्पों के भरे-पटे होने की समस्या सहित अन्य मसले उठाए।

बैठक में सम्बन्धित विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह [email protected] पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

About WFWJ

Check Also

मंगलायतन विश्वविद्यालय और टीएफआरआई जबलपुर के मध्य अनुबन्ध हस्ताक्षरित।

स्टार भास्कर डेस्क/रिपोर्ट अमित सोनी/जबलपुर@ मंगलायतन विश्वविद्यालय, बरेला में दिनांक 29/10/2021 को मंगलायतन विश्विद्यालय एवम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *