Monday , August 3 2020
Home / देश / मध्य प्रदेश / नरसिंहपुर / महिला अपराधों पर कोरा विरोध प्रदर्शन क्यों..?

महिला अपराधों पर कोरा विरोध प्रदर्शन क्यों..?

इस घिनौनी सोच को क्या कहिए..?

  नरसिंहपुर|19/12/2017

 लंबे समय से सोशल मीडिया पर महिला अपराधों के विरोध में काफी प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं जिनमें समाज के सभ्य वर्ग समेत युवा वर्ग द्वारा भी बहुत ही की खेती की बातें की जा रही हैं ऐसा प्रतीत होता है कि लिखने वाला इतनी गुस्से में कमेंट करता है कि यदि बलात्कारी आदमी या किसी महिला से छेड़छाड़ करने वाला व्यक्ति उसके सामने आ जाता तो वह ना जाने क्या करेगा, लेकिन देश प्रदेश या जिले में कहीं भी यदि ऐसी कोई अनहोनी घटना होती है तो संपूर्ण देश वासियों से किसी न किसी माध्यम से उसका विरोध करते हैं।

    चाहे वह ज्ञापन देकर हो रैली निकालकर हो या नारे लगाकर विरोध जायज भी है क्योंकि समाज में वर्तमान परिदृश्य में महिलाओं का सम्मान और सुरक्षा अत्यंत आवश्यक है और देश की सरकार भी महिला अपराधों के विरोध में कड़ा रुख अपनाने लगी है बीते दिनों में नरसिंहपुर जिले में भी बलात्कार और हत्या की वारदात सामने आई और यदाकदा छेड़खानी इत्यादि की घटनाऐं भी घटित हुईं,इतना ही नही बल्कि एक नाबालिक की अश्लील तस्वीरें वायरल करने की घटना भी नरसिंहपुर में घटित हुई इन शर्मनाक घटनाओं की निंदा करना भी जायज है,लेकिन क्या सिर्फ निंदा करने से ही यह घटनायें बंद या कम हो जाएंगी,या फिर आवश्यकता है एक बड़े बदलाव की बदलाब समाज मे नही अपितु अपने आप मे,समझ नही आया न..

     बीते दिनों में शहर और समाज मे घटित कुछ दृश्यों पर नजर डालिए।

पहला दृश्य- सदर माड़िया दर्शन हेतु कुछ अधेड़ उम्र के व्यक्ति आये हुए थे जो कि अपने दो युवा मित्रों से सड़क पर खड़े होकर चर्चा कर रहे है,देखने मे बहुत ही इज्जतदार परिवार के प्रतीत हो रहे थे,और इसी दौरान एक नाबालिक बच्ची वहाँ से गुजरी शायद हाँथ में बैग लेकर कोचिंग या स्कूल जा रही होगी,उन इज्जतदार व्यक्तियों में से एक व्यक्ति ने उस बच्ची के संबंध में गंदी बात प्रारम्भ की इतनी गंदी बातें की जिसे लिखने की इजाजत कलम नही देती जिसके बाद अन्य तीन साथियों ने उसे रोकने की वजाह उसका सांथ देना प्रारंभ कर दिया,इस समय उन सभी ने शायद यह सोचना भी उचित नही समझा कि उनकी भी बेटी या बहन इसी तरह घर से बाहर निकलती हैं।

दूसरा दृश्य- कलेक्ट्रेट परिसर में एक पुलिस कर्मी और दो अफसर नुमा व्यक्ति चर्चाओं का दौरान एक महिला को लेकर अशोभनीय टिप्पणियों के सांथ ठहाके लगाकर घटिया मानसिकता का परिचय देते हैं,और ऐंसा करके वह अपने आपको बहुत ही बड़ा मर्द समझने का प्रयास करते हैं।

तीसरा दृश्य- भूखे पेट अपने बच्चे को गोदी में लेकर भीख माँग रही महिला माँगते-माँगते एक युवाओं की टोली में पहुँच जाती है,तभी उन युवाओं में से एक व्यक्ति उस महिला को भला बुरा कहते हुए ठहाके लगाने लगता है,और उसकी कीमत भी पूछ डालता है,अपनी स्थिति से व्यथित वह महिला मन ही मन उन्हें गालियां देते हुए आगे बढ़ जाती है।

इसी प्रकार के दृश्य एक या दो नही बल्कि हजारों लाखों शहर और समाज मे रोजाना घटित होते हैं,लेकिन किसी को कोई फर्क नही पड़ता और इंतजार किया जाता है कि कब कोई बहन या बेटी इसी प्रकार की मानशिकता के व्यक्ति की घटिया सोच की भेंट चढ़े और हम उसके बाद पुलिस या नेताओं पर दोषारोपण कर सकें।

‘माँ बहनो पर बंद हों गालियाँ-

जो समाज के हितचिंतक घर बैठे इस प्रकार की घटनाओं के समाचारों पर भगतसिंह की भाँति प्रतिक्रिया देते दिखाई पड़ते हैं,कहीं कहीं वही लोग पल-पल माँ बहनो को गलियों में याद करते हैं,अब समाज की इससे ज्यादा दुखदाई व्यथा क्या होगी कि माँ और बहने जिन्हें पवित्रता के तौर पर पूजा इत्यादि में याद किया जाना चाहिए,जिन्हें भारत देश मे काली,सरस्वती या लछमी में रूप में पूजा जाता है उन्हें हम ही गंदी गलियों में शामिल कर लेते हैं,और बहुत ही बड़ी विडंबना है कि किसी व्यक्ति को गालियां देकर मूर्ख लोग अपने आपको बहुत बड़ा कार्य किया ऐंसा सोचते हैं।

     अब  ऐंसी स्थिति में बहुत से सवाल इंसानी दिमाग को झकझोरने के लिए गोते लगाते हैं,की क्या सिर्फ शासन प्रशासन पर दोष मड देने से या फिर ऐंसी शर्मनाक घटनाऐं घटित हो जाने के बाद शोसल मीडिया पर विरोध व्यक्त कर देने से यह समस्याएं खत्म हो जाएगी ,बिल्कुल नही बल्कि आआवश्यकता है स्वयं की सोच सुधारने की क्योंकि कहीं न कहीं इस प्रकार की दूषित मानसिकता ही बलात्कार एवं छेड़खानी जैंसे अपराधों को अंजाम तक पहुंचाती है।और बाद में हम सिर्फ विरोध प्रदर्शन करते ही रह जाते हैं,लेकिन इन सब घटनाओं के पीछे असामाजिक तत्वों को सबसे ज्यादा प्रोत्साहित करने का कार्य हमारे समाज के बीच ही किया जाता है,वरना यदि किसी भी माँ,बेटी या बहन के प्रति अशोभनीय बात करने बाले व्यक्ति को उसके साथी या आसपास के लोग ही रोक दें और उसका विरोध करें तो समाज की यह गंदगी स्वतः ही समाप्त हो जाएगी।

(ललित श्रीवास्तव,WFWJ नरसिंहपुर)

मध्य प्रदेश की ताजा खबरें- यहां क्लिक करें

About admin-star

Check Also

संस्कारधानी में बड़े उत्साह से मनाया गया,रक्षाबंधन का त्यौहार।

स्टार भास्कर डेस्क/जबलपुर@ वैश्विक महामारी कोरोना काल के संक्रमण में रक्षाबंधन का त्यौहार इस बार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *